meri awaaz - meri kavita

कहीं दब न जाए मेरी आवाज ... खामोशी के बीच

25 Posts

100 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15395 postid : 593332

देश शर्मसार है (हिंदी दिवश पर देश ...)

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देश शर्मसार है

देश की महिमा अपार है ।

सबको समान अधिकार है ।

जनता की सरकार है  ।

नेताओं की खुब बहार है ।

***

सजी दिल्‍ली दरबार है ।

रौनक शहर चार है ।

पुंजीवाद का प्रसार है ।

प्रगति का प्रचार है ।।

***

जाति-धर्म जनमत का आधार है ।

धुर्तों के कंधे पर देश का भार है ।

खुला उनके किस्‍मत का द्वार है –

जो नारे दिए- ‘देश का करना उद्धार है ।।

***

अधुरा स्‍वप्‍न अब साकार है ।

‘लूट सको तो लूटो’ यही सार है ।

उसका जीवन बेकार है ।

जिसके पास न चमचमाती कार है ।

***

झोपडि़यों में अंधकार है ।

जनता को देखने का क्‍या दरकार है ।

हर ओर से पड़ रही मार है ।

निरीह किसान इसका शिकार है ।

***

मज़दूरों को न मिलती उचित पगार है ।

दबा दी जाती जो भी चित्‍कार है ।

एक तो हुई राजनीति व्‍यापार है ।

दूजी पूंजीवाद की दोधारी तलवार है ।।

***

चोर-उच्‍चकों की भरमार है ।

हर ओर भष्‍टाचार है ।

झूठ-फरेब़ का बाजार है ।

‘सत्‍य-अहिंसा’ बेबस – लाचार है ।।

***

हिंदी में बोले तो कहते गवार है ।

अंग्रेजी के गुलामों का ऐसा व्‍यवहार है ।

देश से इनको बनावटी प्‍यार है ।

इसलिए आज देश शर्मसार है ।।

————————————

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

5 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

udayraj के द्वारा
September 5, 2013

आज देश में राजनीतिक भष्टाचार हो या धर्म हर तरफ लूट मची है । आज हिंदी दिवश को स‍मर्पित मेरी चंद पंक्तियां यही ब्यान करती है ।

DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
September 7, 2013

सटीक व् सार्थक अभिव्यक्ति हेतु साधुवाद

ushataneja के द्वारा
September 8, 2013

राष्ट्र भाषा पर इंग्लिश की मार है देश भक्ति का जज्बा तार तार है, आज़ादी में भी हर कोई लाचार है फिर भी कहते- वतन से प्यार है? http://ushataneja.jagranjunction.com/

udayraj के द्वारा
September 10, 2013

आपकी चंद पंक्तियों की प्रतिक्रिया ने मेरी कविता में चार चांद लगा दिया है । बहुत बहुत धन्‍यवाद ।

udayraj के द्वारा
September 10, 2013

प्रक्रिया देने के लिए बहुत बहुत धन्‍यवाद ।


topic of the week



latest from jagran